May 19, 2024 8:48 am

मानसून के मौसम में सहायक योगासन

मानसून में सेहतमंद रहने में मदद कर सकते हैं ये योगासन

योगासन मानसून के मौसम में सेहतमंद रहने में सहायक हो सकते हैं।

अपने आहार पर ध्यान केंद्रित करना और सामान्य सावधानियां बरतना शुरुआत करने के अच्छे तरीके हैं, क्या आप जानते हैं कि कुछ योग अभ्यास भी इस मानसून में आपके स्वास्थ्य को नियंत्रित रखने में मदद कर सकते हैं?

मानसून में सेहतमंद रहने के लिये योग महत्वपूर्ण है, जिसमें शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक कल्याण शामिल है। यहां कुछ प्रमुख कारण बताए गए हैं कि क्यों योग को महत्वपूर्ण माना जाता है|

मानसून योग शारीरिक स्वास्थ्य में विभिन्न आसन और गतिविधियाँ शामिल हैं जो लचीलेपन, शक्ति, संतुलन और समग्र शारीरिक फिटनेस को बढ़ावा देती हैं। योग के नियमित अभ्यास से जोड़ों की गतिशीलता, मांसपेशियों की टोन और मुद्रा में सुधार करने में मदद मिल सकती है, जिससे चोटों का खतरा कम हो जाता है और शरीर की जागरूकता बेहतर होती है।

मानसून में सेहतमंद रहने के लिये योग मानसिक स्पष्टता और फोकस की तकनीक और ध्यान के माध्यम से, मानसून योग मन को शांत करने और तनाव को कम करने में मदद करता है। यह एकाग्रता, दिमागीपन और ध्यान और मानसिक स्पष्टता में सुधार कर सकता है, जिससे बेहतर निर्णय लेने और समस्या सुलझाने की क्षमताएं बढ़ सकती हैं।

तनाव में कमी: योग का अभ्यास पैरासिम्पेथेटिक आसन को सक्रिय करता है जिसमें घुमाव और व्युत्क्रम शामिल होते हैं, जैसे अर्ध मत्स्येंद्रासन (हाफ लॉर्ड ऑफ द फिशेज पोज) और शीर्षासन (हेडस्टैंड), लसीका परिसंचरण और प्रतिरक्षा कार्य को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं।

मानसून में हेल्दी रहने के लिए योगासन : :

  • पश्चिमोत्तानासन (Seated Forward Bend)
  • धनुरासन (Bow Pose)
  • चक्रासन (Wheel Pose)
  • अर्ध मत्स्येंद्रासन (Half- Fish Pose)
  • कपाल भाती (Kapal Bhati)

 1) पश्चिमोत्तानासन(Seated Forward Bend): 

मानसून में सेहतमंद रहने के लिये पश्चिमोत्तनासन एक प्रसिद्ध योगासन है जो शरीर की पिछली भुजाओं, पीठ, और पैरों को संशोधित करने में मदद करता है।

इस आसन को करने के लिए:

  1. जमीन पर बैठने की तैयारी करें।
  2. आपके पैरों को आगे फैलाएं।
  3. घुटनों को सीधे रखें।
  4. अपना सिर धीरे-धीरे आगे की ओर झुकाएं, तकी आपके घुटनों के पास पहुंचें।
  5. अपनी जांघों को सीने से मिलाने का प्रयास करें।
  6. हाथों की मदद से पैरों की उंगलियों को पकड़ लें।
  7. अब धीरे से सांस लें और इस अवस्था में कुछ सेकंड के लिए रुकें।

2)धनुरासन (Bow Pose)

मानसून में सेहतमंद रहने के लिये धनुरासन एक योगासन है जो शरीर के पीछे के हिस्से को संशोधित करने में मदद करता है।

इस आसन को करने के लिए:

  1. आपको पेट के बल लेट जाना चाहिए।
  2. अब आपको अपने घुटनों को मोड़कर ऊपर उठाना है।
  3. अपने हाथों से अपनी एड़ियाँ पकड़ लें।
  4. जितना संभव हो, अपने पैर और हाथों को ऊपर उठाएं।
  5. इस आसन में थोड़ी देर के लिए रुकें।
  6. फिर सामान्य स्थिति में वापस आएं।

3) चक्रासन (Wheel Pose)

मानसून में सेहतमंद रहने के लिये चक्रासन एक प्रसिद्ध और चुनौतीपूर्ण योगासन है जो पूरे शरीर को तंग करने और संशोधित करने में मदद करता है। इसे उड़ती हुई धरती का आसन भी कहा जाता है क्योंकि इसे करने पर आपके शरीर को ऊपर उठने का अनुभव होता है। चक्रासन को करने के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन करें:

  • आपके पेट की तरफ लेट जाएं।
  • अपने घुटनों को मोड़ें और पैरों को विस्तृत रूप से समतल पर रखें।
  • आपके हाथों को उठाते समय कोहनियों की दिशा में मोड़ें और हथेलियों को सिर के पीछे ले जाएं।
  • अब आपके हथेलियों को सिर की दोनों ओर और पैरों को भूमि पर रखें।
  • श्वास लें, और अपने हाथों और पैरों पर दबाव डालते हुए पूरे शरीर को एक बान की तरह उठाएं।
  • इस क्रिया के दौरान केवल आपके पैर और हाथ ज़मीन पर संपर्क में हों।
  • अपनी गर्दन को धीरे से छोड़ें और सिर को आराम से पीछे ले जाने दें।

4) अर्ध मत्स्येंद्रासन (Half- Fish Pose)

मानसून में सेहतमंद रहने के लिये अर्ध मत्स्येन्द्रासन एक आसन है जो तंग और कंधों की मांसपेशियों को संशोधित करने में मदद करता है। यह आसन मत्स्यासन (Fish Pose) का एक संक्षेपित रूप है।

इस आसन को करने के लिए निम्नलिखित पद्धति का अनुसरण करें:

  1. आराम से खड़े हों और दोनों पैरों को सामने की ओर फैलाएं।
  2. अब बाएं पैर की जांघ को घुटने से मोड़ें और उसे दाएं घुटने के पास जमीन पर रखें।
  3. दाएं पैर की जांघ को अब बाएं कूल्हे के पास ले जाएं।
  4. अब अपने दाहिने हाथ की उंगली से बाएं पैर के अंगूठे को पकड़ें, जब आप बाएं कंधे के ऊपर की ओर ट्विस्ट करते हुए शरीर को पीछे की ओर देख रहे हों।
  5. अब बाएं हाथ को धीरे से अपनी कमर के पीछे ले जाएं और हथेली को बाहर की ओर रखें।
  6. आसन में देर तक बनाए रखें और सांसें धीरे से लें।

5) कपाल भाती (Kapal Bhati)

मानसून में सेहतमंद रहने के लिये कपाल भाती (Kapal Bhati) एक प्राणायाम तकनीक है जो योग में अत्यंत महत्वपूर्ण है। इस प्राणायाम को नाभि और अन्दरुनी अंगों को संसोधित करने और शरीर को ताजगी प्रदान करने के लिए किया जाता है। इसे खाली पेट किया जाता है और यह श्वसन को संशोधित करने में मदद करता है।

कपाल भाती करने के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन करें:

  1. पहले पद्मासन में बैठें।
  2. अपनी पीठ को सीधा करें और अपनी आंखें बंद करें।
  3. हाथेलियों को घुटनों पर रखें।
  4. सामान्य ताल से सांस लें और फिर एक छोटी और गहरी सांस लेकर श्वास छोड़ें।
  5. जब आप श्वास छोड़ते हैं, अपने पेट को अंदर की ओर धकेलें और सांस लेते समय बाहर की ओर निकालें।
  6. जितनी देर तक आप यह कर सकते हैं, वह करें।

मानसून में योग श्वसन समस्याओं से राहत दिलाता है: मानसून का मौसम अक्सर नमी और सीलन लाता है, जो श्वसन समस्याओं को बढ़ा सकता है। योग अभ्यास जो गहरी सांस लेने पर जोर देते हैं, जैसे कि प्राणायाम, श्वसन मार्गों को साफ करने, फेफड़ों की क्षमता में सुधार करने और श्वसन संक्रमण के जोखिम को कम करने में मदद कर सकते हैं।

तनाव को नियंत्रित करता है: मानसून कभी-कभी मूड में बदलाव और सुस्ती की भावना पैदा कर सकता है। योग और ध्यान तनाव और चिंता को कम करने, सकारात्मक दृष्टिकोण और मानसिक कल्याण को बढ़ावा देने के लिए जाने जाते हैं। शवासन (शव मुद्रा) और ध्यान जैसे अभ्यास मन को आराम देने और नींद की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद कर सकते हैं।

मानसून योग पाचन बढ़ाता है: मानसून के दौरान मौसम में बदलाव पाचन को प्रभावित कर सकता है। त्रिकोणासन (त्रिकोण मुद्रा) और पश्चिमोत्तानासन (बैठकर आगे की ओर झुकना) जैसे योग आसन जिनमें घुमाव शामिल होता है, पाचन में सहायता कर सकते हैं और सूजन से राहत दिला सकते हैं।

लचीलेपन और ताकत में सुधार: योग आसन लचीलेपन, संतुलन और ताकत में सुधार करने में मदद करते हैं। नियमित योगाभ्यास आपके शरीर को अधिक लचीला बना सकता है और मानसून की फिसलन भरी और कीचड़ भरी स्थितियों के दौरान चोट लगने की संभावना कम हो सकती है। शरीर को साफ करता है:

कुछ योग अभ्यास, जैसे शंकप्रक्षालन (आंतों की सफाई प्रक्रिया) और कुंजल क्रिया (पेट की सफाई), शरीर को डिटॉक्सीफाई करने और पाचन स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद कर सकते हैं।

 

परिसंचरण को बढ़ावा देता है: वृक्षासन (वृक्ष मुद्रा) और अधो मुख संवासन (नीचे की ओर मुख किए हुए कुत्ते की मुद्रा) जैसे योग अभ्यास पूरे शरीर में रक्त परिसंचरण में सुधार कर सकते हैं, जो मानसून के मौसम में विशेष रूप से फायदेमंद है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि हालांकि मानसून योग फायदेमंद हो सकता है, लेकिन मानसून के दौरान कुछ सावधानियों का पालन करना आवश्यक है, खासकर यदि आप बाहर अभ्यास कर रहे हैं। मानसून के मौसम के दौरान एक सुंदर और ताज़ा अनुभव हो सकता है। हालाँकि, अपनी सुरक्षा और भलाई सुनिश्चित करने के लिए कुछ सावधानियाँ बरतना महत्वपूर्ण है।

“मौसम की स्थिति की जाँच करें, स्थिर सतह पर योगाभ्यास करें, सजगता के साथ अभ्यास करें, अपने शरीर की सुनें।” अपने योगा मैट पर आराम से बैठकर, अपने शरीर की सुनें।”

यह प्राणायाम तकनीक मन को शांत करती है और तनाव और चिंता को कम करती है। अनुलोम-विलोम को अपनी दिनचर्या में शामिल करने से श्वसन प्रणाली को स्वस्थ बनाए रखने और मानसून के दौरान समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मदद मिल सकती है।

कपालभाति में ज़ोरदार साँस छोड़ना और उसके बाद निष्क्रिय साँस लेना शामिल है। यह साँस लेने की तकनीक श्वसन प्रणाली को साफ़ करने, अतिरिक्त बलगम को हटाने और फेफड़ों की क्षमता में सुधार करने में मदद करती है। यह परिसंचरण को भी बढ़ावा देता है और मानसिक स्पष्टता को बढ़ाता है। इसके अतिरिक्त, अपने पैरों को गर्म और सूखा रखने, बासी भोजन से बचने और गर्मी पैदा करने वाले खाद्य पदार्थ खाने की सलाह दी जाती है।

 

डॉ. शेट्टी ने कहा कि मानसून का निराशाजनक मौसम और कम प्राकृतिक रोशनी मूड और ऊर्जा के स्तर को प्रभावित कर सकती है। “योग आपकी आत्माओं को ऊपर उठाने और मानसिक कल्याण को बढ़ावा देने के लिए एक शक्तिशाली उपकरण हो सकता है। माइंडफुलनेस, विश्राम तकनीक और ध्यान योग के अभिन्न अंग हैं जो तनाव को कम करने, मन को शांत करने और सकारात्मक स्थिति विकसित करने में मदद करते हैं।

📣 लाइफस्टाइल से जुड़ी अधिक खबरों के लिए हमें इंस्टाग्राम पर फॉलो करें | फेसबुक और नवीनतम अपडेट से न चूकें!

सुबह खजूर खाने के 10 फायदे – Eating Dates in the Morning

talktoons@
Author: talktoons@

Spread the love