May 29, 2024 3:13 pm

चंडीगढ़ जुलाई तक गैर-इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों Electric Motorcycles का पंजीकरण बंद करेगा

चंडीगढ़ जुलाई तक गैर-इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों Electric Motorcycles का पंजीकरण बंद करेगा

चंडीगढ़ जुलाई तक गैर-इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों Electric Motorcycles का पंजीकरण बंद करेगा

चंडीगढ़ प्रशासन जुलाई तक जीवाश्म ईंधन आधारित दुपहिया वाहनों Electric Motorcycles का पंजीकरण बंद करेगा

चंडीगढ़ प्रशासन ने जुलाई से बिना इलेक्ट्रिक दोपहिया Electric Motorcycles वाहनों का रजिस्ट्रेशन बंद करने का फैसला किया है। यह कदम शहर में इलेक्ट्रिक वाहनों Electric Vehicles को बढ़ावा देने के प्रशासन के प्रयासों का हिस्सा है।

वर्तमान में, चंडीगढ़ में 4 लाख से अधिक दोपहिया वाहन पंजीकृत हैं। इनमें से करीब 1,000 ही इलेक्ट्रिक वाहन Electric Motorcycles हैं। प्रशासन को उम्मीद है कि इस कदम से और लोग इलेक्ट्रिक वाहनों की ओर जाने के लिए प्रोत्साहित होंगे।

पेट्रोल या डीजल से चलने वाले वाहनों की तुलना में इलेक्ट्रिक वाहनों Electric Motorcycles के कई फायदे हैं। इलेक्ट्रिक वाहन शून्य उत्सर्जन उत्सर्जित करते हैं, जो पर्यावरण के लिए बेहतर है। वे अधिक कुशल भी हैं, और इस प्रकार, संचालित करने में कम लागत आती है।

चंडीगढ़ प्रशासन शहर में इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने के लिए कई पहलों पर काम कर रहा है। इनमें चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर स्थापित करना और इलेक्ट्रिक वाहनों की खरीद पर सब्सिडी प्रदान करना शामिल है।

इस कदम के साथ, चंडीगढ़ प्रशासन को उम्मीद है कि अधिक से अधिक लोगों को इलेक्ट्रिक वाहनों Electric Motorcycles के लिए प्रोत्साहित करने और शहर को स्वच्छ और हरा-भरा बनाने में मदद मिलेगी।

 

दिसंबर तक बिना बिजली के चारपहिया वाहनों का पंजीकरण बंद करेगा चंडीगढ़ प्रशासन

चंडीगढ़ प्रशासन ने इस साल दिसंबर से बिना इलेक्ट्रिक चार पहिया वाहनों Electric Vehicles का रजिस्ट्रेशन बंद करने का फैसला किया है। यह कदम शहर में इलेक्ट्रिक वाहनों Electric Vehicles को बढ़ावा देने के प्रशासन के प्रयासों का हिस्सा है।

यह निर्णय चंडीगढ़ ट्रांसपोर्ट अंडरटेकिंग (सीटीयू) बोर्ड की बैठक में लिया गया, जिसकी अध्यक्षता चंडीगढ़ के प्रशासक वीपी सिंह बदनौर ने की। यह निर्णय लिया गया कि गैर-इलेक्ट्रिक चौपहिया वाहनों Electric Vehicles के मौजूदा बेड़े को तीन साल की अवधि में समाप्त कर दिया जाएगा।

यह कदम 2030 तक सड़कों पर केवल इलेक्ट्रिक वाहन चलाने के केंद्र सरकार के दृष्टिकोण के अनुरूप है। कई राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने पहले ही इस दिशा में कदम उठाए हैं। उदाहरण के लिए, दिल्ली सरकार ने 2030 तक डीजल और पेट्रोल वाहनों को चरणबद्ध करने का निर्णय लिया है।

चंडीगढ़ प्रशासन भी इलेक्ट्रिक वाहनों के इस्तेमाल को बढ़ावा देने की नीति पर काम कर रहा है। नीति के अनुसार, इलेक्ट्रिक वाहनों Electric Vehicles पर स्विच करने वालों को प्रोत्साहन दिया जाएगा। जल्द ही नीति की घोषणा होने की संभावना है।

 

चंडीगढ़ प्रशासन की प्रदूषण कम करने और हरित गतिशीलता की ओर बढ़ने की योजना

चंडीगढ़, भारत के सबसे नियोजित और स्वच्छ शहरों में से एक, अब प्रदूषण को कम करने और हरित गतिशीलता की ओर बढ़ने के लिए कदम उठा रहा है। शहर ऑड-ईवन ट्रैफिक नियमों का पालन कर रहा है और अब जुलाई 2019 से गैर-इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों के पंजीकरण को रोकने का फैसला किया है।

यह निर्णय शहर के तीन प्रशासनों – नगर निगम, चंडीगढ़ औद्योगिक और पर्यटन विकास निगम, और चंडीगढ़ हाउसिंग बोर्ड – द्वारा एक संयुक्त बैठक में लिया गया। इस कदम का उद्देश्य वायु प्रदूषण को कम करना और शहर में इलेक्ट्रिक वाहनों के उपयोग को बढ़ावा देना है।

वर्तमान में, चंडीगढ़ में लगभग 4 लाख दोपहिया वाहन पंजीकृत हैं। इनमें से केवल 1,200 इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहन हैं। शहर में कुल 1.5 लाख चार पहिया वाहन हैं, जिनमें से केवल 700 ही इलेक्ट्रिक हैं।

गैर-इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों का रजिस्ट्रेशन बंद करने का फैसला उन लोगों पर लागू नहीं होगा, जिन्होंने अपने वाहनों की बुकिंग करा रखी है. हालांकि, उन्हें जुलाई 2019 से पहले अपने वाहनों का रजिस्ट्रेशन कराना होगा।

अधिकारियों का कहना है कि इस कदम से शहर में वायु प्रदूषण को महत्वपूर्ण अंतर से कम करने में मदद मिलेगी। उन्हें यह भी उम्मीद है कि यह अधिक लोगों को इलेक्ट्रिक वाहनों पर स्विच करने के लिए प्रोत्साहित करेगा, जो स्वच्छ और अधिक पर्यावरण के अनुकूल हैं।

नगर प्रशासन भी इलेक्ट्रिक वाहनों पर स्विच करने वालों को वित्तीय प्रोत्साहन प्रदान करने की योजना पर काम कर रहा है। योजना के विवरण पर अभी भी काम किया जा रहा है और जल्द ही इसकी घोषणा की जाएगी।

यह चंडीगढ़ प्रशासन द्वारा एक स्वागत योग्य कदम है और प्रदूषण को कम करने और शहर में स्वच्छ और हरित गतिशीलता को बढ़ावा देने के लिए एक लंबा रास्ता तय करेगा।

 

परिवहन विभाग चंडीगढ़ के निदेशक प्रद्युम्न सिंह ने पेट्रोल और डीजल से चलने वाले वाहनों के रजिस्ट्रेशन पर रोक लगाने पर

चंडीगढ़ में परिवहन विभाग के निदेशक प्रद्युम्न सिंह ने पेट्रोल और डीजल से चलने वाले वाहनों के रजिस्ट्रेशन पर रोक लगाने का ऐलान किया है. इस कदम का मकसद शहर में वायु प्रदूषण पर लगाम लगाना है।

1 जुलाई 2019 से लागू होने वाले नए नियम के तहत शहर में सिर्फ इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों का ही रजिस्ट्रेशन होगा. पेट्रोल या डीजल से चलने वाले दोपहिया वाहनों को शहर के बाहर से लाए जाने पर भी पंजीकरण की अनुमति नहीं दी जाएगी।

इस कदम से शहर में बड़ी संख्या में दोपहिया वाहन मालिकों के प्रभावित होने की संभावना है, क्योंकि वर्तमान में बाजार में कोई इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहन उपलब्ध नहीं हैं। हालांकि, सिंह ने कहा कि शहर में वायु प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए यह कदम जरूरी था।

पेट्रोल और डीजल दोपहिया वाहनों के पंजीकरण पर प्रतिबंध से शहर में इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों की मांग बढ़ने की संभावना है। हालांकि, यह देखा जाना बाकी है कि बाजार की मौजूदा स्थिति को देखते हुए कितने लोग इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर्स पर जाने के लिए तैयार होंगे।

 

चंडीगढ़ संघ

फेडरेशन ऑफ चंडीगढ़ ट्रेड एंड इंडस्ट्री (एफसीटीआई) ने शहर में इलेक्ट्रिक वाहनों (ईवीएस) को बढ़ावा देने के लिए 1 जुलाई से गैर-इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों के पंजीकरण को रोकने का फैसला किया है। इस कदम का उद्देश्य वायु प्रदूषण को कम करना और शहर में स्थायी परिवहन को बढ़ावा देना है।

एफसीटीआई के अध्यक्ष विकास कात्याल ने कहा कि गुरुवार को महासंघ की प्रबंध समिति की बैठक में यह निर्णय लिया गया। कात्याल ने कहा, “हमने चंडीगढ़ प्रशासन को पत्र लिखकर गैर-इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों के पंजीकरण पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है। हमने प्रशासन से इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों की खरीद के लिए प्रोत्साहन प्रदान करने के लिए भी कहा है।”

उन्होंने कहा कि शहर में बढ़ते प्रदूषण के स्तर की जांच के लिए यह कदम जरूरी था। कात्याल ने कहा, “वाहनों की संख्या में वृद्धि के साथ, शहर में प्रदूषण का स्तर भी बढ़ गया है। प्रदूषण की जांच के लिए हमें कुछ करने की जरूरत है। इलेक्ट्रिक वाहन भविष्य हैं और हमें उन्हें बढ़ावा देने की जरूरत है।”

एफसीटीआई ने शहर में इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) चार्जिंग स्टेशन स्थापित करने का भी फैसला किया है। कात्याल ने कहा कि महासंघ अपनी लागत से ईवी चार्जिंग स्टेशन स्थापित करेगा। कात्याल ने कहा, “हम अपने कार्यालय और शहर के अन्य रणनीतिक स्थानों पर ईवी चार्जिंग स्टेशन स्थापित करेंगे। हम अपने सदस्यों के बीच ईवी के उपयोग को भी बढ़ावा देंगे।”

एफसीटीआई का यह कदम शहर में ईवी को बढ़ावा देने के चंडीगढ़ प्रशासन के प्रयासों के अनुरूप है। प्रशासन ने पहले शहर के सभी पेट्रोल पंपों पर ईवी चार्जिंग स्टेशन लगाने का फैसला किया था। ईवी की खरीद पर सब्सिडी देने का भी फैसला किया है।

एफसीटीआई के फैसले के साथ, चंडीगढ़ गैर-इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों के पंजीकरण पर प्रतिबंध लगाने वाला देश का पहला शहर बनने के लिए तैयार है।

 

क्या आप भोजन में फाइबर के फायदे जानते हैं?

talktoons@
Author: talktoons@

Spread the love