May 23, 2024 3:42 am

अमर्त्य सेन: मानवता के अर्थशास्त्री

Amartya Sen

Amartya Sen : प्रतिष्ठित अर्थशास्त्री, दार्शनिक और नोबेल पुरस्कार विजेता अमर्त्य सेन ने मानव विकास, कल्याण और सामाजिक न्याय की हमारी समझ में गहरा योगदान दिया है। 1933 में भारत के शांतिनिकेतन में जन्मे सेन का काम कई विषयों तक फैला है, जिससे उन्हें वैश्विक पहचान और सम्मान मिला है। यह लेख अमर्त्य सेन के जीवन और विचारों पर प्रकाश डालता है, उनकी प्रमुख अवधारणाओं और दुनिया पर उनके प्रभाव पर प्रकाश डालता है।

 

Amartya Sen : प्रारंभिक जीवन और शिक्षा

 

अमर्त्य सेन का जन्म विद्वानों और शिक्षकों के परिवार में हुआ था। उनके पिता, आशुतोष सेन, रसायन विज्ञान के एक प्रसिद्ध प्रोफेसर थे, और उनकी माँ, अमिता सेन, एक शिक्षिका थीं। इस शैक्षणिक वातावरण का निस्संदेह उनके बौद्धिक विकास पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ा।

 

सेन ने अपनी प्राथमिक शिक्षा भारत में प्राप्त की, अंततः कलकत्ता (अब कोलकाता) के प्रेसीडेंसी कॉलेज में दाखिला लिया। उन्होंने कलकत्ता विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र में स्नातक की पढ़ाई की, और इस समय के दौरान उन्होंने अर्थशास्त्र में गहरी रुचि विकसित की और सामाजिक मुद्दों को संबोधित करने की इसकी क्षमता विकसित की।

 

सेन ने विदेश में अपनी पढ़ाई जारी रखी और 1959 में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में डॉक्टरेट की उपाधि पूरी की। उनका प्रारंभिक कार्य कल्याणकारी अर्थशास्त्र पर केंद्रित था, एक ऐसा क्षेत्र जो उनके अकादमिक करियर की आधारशिला बन गया।

 

Amartya Sen : अर्थशास्त्र में प्रमुख योगदान

 

अर्थशास्त्र में अमर्त्य सेन का योगदान अभूतपूर्व रहा है और इस क्षेत्र को आकार देता रहा है। उनके कुछ सबसे उल्लेखनीय योगदानों में शामिल हैं:

 

सामाजिक चयन सिद्धांत: कैम्ब्रिज में सेन की डॉक्टरेट थीसिस सामाजिक चयन सिद्धांत के दायरे में गहराई से उतरी। उन्होंने “बहुमत की तानाशाही” के पारंपरिक विचारों को चुनौती दी और एरो की असंभवता प्रमेय प्रस्तुत किया, जिसने व्यक्तिगत प्राथमिकताओं को एक सुसंगत सामाजिक प्राथमिकता में एकत्रित करने की अंतर्निहित चुनौतियों का प्रदर्शन किया। इस प्रमेय का सामूहिक निर्णय लेने और मतदान प्रणालियों की हमारी समझ पर गहरा प्रभाव पड़ा।

 

क्षमता दृष्टिकोण: सेन के सबसे स्थायी विचारों में से एक क्षमता दृष्टिकोण है। उन्होंने तर्क दिया कि भलाई का आकलन केवल आय या उपभोग को मापने तक ही सीमित नहीं होना चाहिए। इसके बजाय, हमें व्यक्तियों की उस तरह का जीवन जीने की क्षमताओं पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए जिसे वे महत्व देते हैं। यह दृष्टिकोण स्वतंत्रता, अवसरों और सामाजिक और आर्थिक बाधाओं को दूर करने के महत्व पर जोर देता है।

 

स्वतंत्रता के रूप में विकास: अपनी पुस्तक “विकास के रूप में स्वतंत्रता” में सेन ने क्षमता दृष्टिकोण और विकास अर्थशास्त्र के लिए इसके निहितार्थों पर विस्तार से बताया। उन्होंने तर्क दिया कि विकास को केवल आर्थिक विकास के बजाय लोगों की स्वतंत्रता के विस्तार के रूप में देखा जाना चाहिए। इस पुस्तक ने विकास और मानव कल्याण की अधिक व्यापक समझ की नींव रखी।

 

अकाल और गरीबी: अकाल और गरीबी पर अमर्त्य सेन का शोध, विशेष रूप से 1943 के बंगाल अकाल पर उनका काम, इन मुद्दों के बारे में हमारी सोच को बदलने में सहायक रहा है। उन्होंने प्रदर्शित किया कि अकाल केवल भोजन की कमी के कारण नहीं होता है, बल्कि अक्सर वितरण और पात्रता में विफलताओं का परिणाम होता है। उनके काम से भूख और गरीबी को संबोधित करने में आर्थिक और राजनीतिक कारकों की भूमिका पर अधिक जोर दिया गया।

 

Amartya Sen : दार्शनिक योगदान

 

अमर्त्य सेन के विचार अर्थशास्त्र से परे, दर्शन और नैतिकता को प्रभावित करते हैं। उन्होंने मानव विकास और सामाजिक न्याय के नैतिक आयामों की खोज की है। उनका काम सार्वजनिक नीति में मूल्यों और नैतिकता के महत्व पर जोर देते हुए आर्थिक विश्लेषण और नैतिक दर्शन के बीच की खाई को पाटता है।

 

सेन की “चुनने की क्षमता” की अवधारणा सामाजिक न्याय के प्रति उनकी प्रतिबद्धता से मेल खाती है। उनका तर्क है कि समाज को लोगों के जीवन में विकल्पों का विस्तार करने की दिशा में काम करना चाहिए, इस प्रकार व्यक्तिगत स्वतंत्रता और कल्याण को बढ़ावा देना चाहिए। यह परिप्रेक्ष्य जॉन रॉल्स के न्याय सिद्धांत से निकटता से संबंधित है और इसने वितरणात्मक न्याय के बारे में चल रही बहस में योगदान दिया है।

 

Amartya Sen : पुरस्कार और मान्यता

 

अर्थशास्त्र और दर्शनशास्त्र में अमर्त्य सेन के उल्लेखनीय योगदान ने उन्हें कई पुरस्कार और सम्मान दिलाये हैं। 1998 में, कल्याणकारी अर्थशास्त्र पर उनके काम के लिए उन्हें अल्फ्रेड नोबेल (आमतौर पर अर्थशास्त्र में नोबेल पुरस्कार के रूप में जाना जाता है) की स्मृति में आर्थिक विज्ञान में स्वेरिजेस रिक्सबैंक पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। वह उन कुछ अर्थशास्त्रियों में से एक हैं जिन्हें यह प्रतिष्ठित पुरस्कार मिला है।

 

नोबेल पुरस्कार के अलावा, सेन को कई अन्य सम्मान भी मिले हैं, जिनमें भारत रत्न, भारत का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार और अमेरिकी राष्ट्रपति पदक स्वतंत्रता शामिल है। उनका काम दुनिया भर में आर्थिक और सामाजिक नीति को आकार देना जारी रखता है।

 

Amartya Senवैश्विक नीति पर प्रभाव

 

अमर्त्य सेन के विचारों का वैश्विक नीति और विकास पहल पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ा है। उनका प्रभाव विभिन्न तरीकों से देखा जा सकता है:

 

मानव विकास सूचकांक (एचडीआई): सेन के क्षमता दृष्टिकोण ने मानव विकास सूचकांक के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जिसका उपयोग संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) द्वारा देशों में मानव विकास को मापने और तुलना करने के लिए किया जाता है। एचडीआई आय के अलावा शिक्षा और स्वास्थ्य जैसे कारकों पर भी विचार करता है।

 

सामाजिक कल्याण कार्यक्रम: कई सरकारों और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों ने सामाजिक कल्याण कार्यक्रमों को डिजाइन करने में सेन के विचारों को अपनाया है जिनका उद्देश्य लोगों की क्षमताओं को बढ़ाना और गरीबी को कम करना है। ये कार्यक्रम अक्सर शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और सामाजिक सुरक्षा जाल पर केंद्रित होते हैं।

 

वैश्विक न्याय पर बहस: सेन के काम ने वैश्विक न्याय और कम भाग्यशाली लोगों की जरूरतों को पूरा करने के लिए अमीर देशों की जिम्मेदारी के बारे में चल रही बहस में भी योगदान दिया है। नैतिकता और विकास पर उनके लेखन ने अंतर्राष्ट्रीय सहायता और सहयोग पर चर्चा को प्रेरित किया है।

 

कलकत्ता से कैम्ब्रिज और उससे आगे तक अमर्त्य सेन की बौद्धिक यात्रा ने अर्थशास्त्र, दर्शन और वैश्विक नीति पर एक अमिट छाप छोड़ी है। उनकी नवोन्मेषी सोच, विशेष रूप से सामाजिक चयन सिद्धांत, क्षमता दृष्टिकोण और स्वतंत्रता के रूप में विकास के क्षेत्रों में, ने कल्याण और मानव विकास को देखने के हमारे नजरिए को बदल दिया है।

 

गरीबी, अकाल और सामाजिक न्याय के मुद्दों को संबोधित करने के प्रति सेन के समर्पण ने न केवल उन्हें प्रतिष्ठित पुरस्कार दिलाए हैं, बल्कि दुनिया पर भी इसका स्थायी प्रभाव पड़ा है। उनके विचार सार्वजनिक नीतियों को आकार देना जारी रखते हैं और अर्थशास्त्रियों और दार्शनिकों की एक नई पीढ़ी को आर्थिक विश्लेषण और मानव कल्याण के बीच गहन अंतर्संबंधों का पता लगाने के लिए प्रेरित करते हैं। अमर्त्य सेन की विरासत निस्संदेह कायम रहेगी और आने वाली पीढ़ियों के लिए अर्थशास्त्र और नैतिकता के क्षेत्र में एक अमिट छाप छोड़ेगी।

 

 

talktoons@
Author: talktoons@

Spread the love