May 19, 2024 7:37 am

सुप्रीम कोर्ट ने मणिपुर को इंटरनेट सेवा प्रदान करने का निर्देश दिया

Supreme court directs Manipur to provide internet service

एक ऐतिहासिक फैसले में, जो देश में डिजिटल पहुंच को संभावित रूप से नया आकार दे सकता है, भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने मणिपुर राज्य को अपने सभी नागरिकों के लिए इंटरनेट सेवा का प्रावधान सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है। यह फैसला उस डिजिटल विभाजन को पाटने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है जो लंबे समय से कायम है, खासकर देश के दूरदराज और वंचित इलाकों में। इस कदम के साथ, अदालत ने मौलिक अधिकार के रूप में इंटरनेट कनेक्टिविटी के महत्व को रेखांकित किया है और व्यक्तियों और समुदायों को सशक्त बनाने की इसकी क्षमता को मान्यता दी है।

 

 

डिजिटल विभाजन और इसके निहितार्थ

डिजिटल विभाजन समाज के विभिन्न वर्गों के बीच सूचना और संचार प्रौद्योगिकियों, विशेष रूप से इंटरनेट तक पहुंच में असमानता को संदर्भित करता है। तेजी से डिजिटल होती दुनिया में, जहां आवश्यक सेवाएं, शिक्षा, नौकरी के अवसर और यहां तक कि सामाजिक संपर्क भी ऑनलाइन हो गए हैं, इंटरनेट पहुंच की कमी प्रगति और विकास में काफी बाधा डाल सकती है।

 

भारत का पूर्वोत्तर राज्य मणिपुर, जो अपनी समृद्ध संस्कृति और विविध समुदायों के लिए जाना जाता है, को इंटरनेट पहुंच के मामले में चुनौतियों का सामना करना पड़ा है। भौगोलिक बाधाओं और ढांचागत सीमाओं के कारण राज्य में कई लोगों के लिए डिजिटल क्रांति से लाभ उठाना मुश्किल हो गया है। इस विभाजन ने शिक्षा तक असमान पहुंच, सीमित आर्थिक अवसर और महत्वपूर्ण जानकारी तक सीमित पहुंच में योगदान दिया है।

 

 

 

सर्वोच्च न्यायालय का डिजिटल समानता पर जोर

सकारात्मक बदलाव लाने में इंटरनेट की क्षमता को पहचानते हुए सुप्रीम कोर्ट ने मणिपुर को इंटरनेट सेवाओं तक व्यापक पहुंच सुनिश्चित करने का आदेश देकर निर्णायक रुख अपनाया है। अदालत का निर्णय वैश्विक आम सहमति के अनुरूप है जो आज की परस्पर जुड़ी दुनिया में डिजिटल पहुंच को एक बुनियादी मानव अधिकार मानता है।

 

इस फैसले के दूरगामी प्रभाव होने की उम्मीद है, जिससे अन्य राज्यों के लिए भी इसका अनुसरण करने के लिए एक मिसाल कायम होगी। यह न केवल तकनीकी समावेशिता के महत्व पर प्रकाश डालता है, बल्कि सरकारों और हितधारकों को देश के सुदूर कोनों तक डिजिटल बुनियादी ढांचे के विस्तार में सहयोग करने की चुनौती भी देता है।

 

 

कनेक्टिविटी के माध्यम से समुदायों को सशक्त बनाना

इंटरनेट कनेक्टिविटी अब केवल एक सुविधा नहीं रह गई है; यह सशक्तिकरण का एक शक्तिशाली उपकरण है। जानकारी तक पहुंचने, दूसरों से जुड़ने और ऑनलाइन नए अवसरों का पता लगाने की क्षमता जीवन और समुदायों को बदल सकती है। शिक्षा में, छात्र ऑनलाइन संसाधनों तक पहुंच सकते हैं, ई-लर्निंग प्लेटफॉर्म में भाग ले सकते हैं और ज्ञान की दुनिया से परिचित हो सकते हैं। नौकरी चाहने वालों और उद्यमियों के लिए, इंटरनेट दूरस्थ कार्य, ऑनलाइन व्यवसायों और वैश्विक बाज़ारों के द्वार खोलता है।

 

इसके अलावा, संचालन के पारंपरिक तरीकों पर महामारी के प्रभाव ने डिजिटल समाधानों की आवश्यकता पर जोर दिया है। दूरस्थ स्वास्थ्य देखभाल परामर्श, ऑनलाइन सरकारी सेवाएँ और आभासी सामाजिक संपर्क आदर्श बन गए हैं। विश्वसनीय इंटरनेट पहुंच के बिना, व्यक्ति पीछे रह जाते हैं और महत्वपूर्ण सेवाओं और संसाधनों तक पहुंचने में असमर्थ हो जाते हैं।

 

 

कार्यान्वयन के लिए एक बहुआयामी दृष्टिकोण

हालाँकि सुप्रीम कोर्ट का निर्देश सही दिशा में एक कदम है, लेकिन इसके कार्यान्वयन में चुनौतियाँ हैं जिन्हें सक्रिय रूप से संबोधित किया जाना चाहिए। मणिपुर सरकार को निजी संस्थाओं और गैर-सरकारी संगठनों के सहयोग से एक बहुआयामी दृष्टिकोण अपनाने की जरूरत है:

 

बुनियादी ढांचे का विकास: नेटवर्क टावरों, ब्रॉडबैंड कनेक्शन और फाइबर ऑप्टिक केबल सहित आवश्यक डिजिटल बुनियादी ढांचे की स्थापना करना पहला महत्वपूर्ण कदम है। इसके लिए दूरदराज के क्षेत्रों में भी निर्बाध कनेक्टिविटी सुनिश्चित करने के लिए रणनीतिक योजना और निवेश की आवश्यकता है।

 

सार्वजनिक-निजी भागीदारी: सरकार और निजी क्षेत्र के बीच सहयोग से बुनियादी ढांचे के विकास में तेजी आ सकती है। दूरसंचार कंपनियां वंचित क्षेत्रों में नेटवर्क कवरेज का विस्तार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती हैं।

 

डिजिटल साक्षरता कार्यक्रम: केवल पहुंच ही पर्याप्त नहीं है; डिजिटल साक्षरता भी उतनी ही महत्वपूर्ण है। नागरिकों को इंटरनेट के लाभों और इसे सुरक्षित और प्रभावी ढंग से उपयोग करने के बारे में शिक्षित करने के लिए पहल शुरू की जानी चाहिए।

 

सामर्थ्य: इंटरनेट का उपयोग सभी नागरिकों के लिए किफायती होना चाहिए। मूल्य निर्धारण मॉडल को विभिन्न आय समूहों को समायोजित करने के लिए डिज़ाइन किया जाना चाहिए, जिससे प्रवेश में आर्थिक बाधाओं को रोका जा सके।

 

स्थानीयकृत सामग्री: स्थानीय समुदायों के लिए प्रासंगिक सामग्री प्रदान करने से इंटरनेट अपनाने को बढ़ावा मिल सकता है। स्थानीय भाषा की सामग्री, सेवाएँ और एप्लिकेशन इंटरनेट को अधिक भरोसेमंद और उपयोगी बना सकते हैं।

 

स्थिरता: इंटरनेट सेवाओं की दीर्घकालिक स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए निरंतर निगरानी, ​​रखरखाव और बदलते तकनीकी परिदृश्यों के अनुकूलन की आवश्यकता होती है।

 

डेटा गोपनीयता और सुरक्षा: जैसे-जैसे इंटरनेट का उपयोग बढ़ता है, डेटा गोपनीयता और सुरक्षा सर्वोपरि हो जाती है। उपयोगकर्ता की जानकारी की सुरक्षा के लिए कड़े उपाय होने चाहिए।

 

 

समावेशी प्रगति की ओर एक कदम

मणिपुर में इंटरनेट सेवा प्रदान करने का सर्वोच्च न्यायालय का निर्देश डिजिटल रूप से समावेशी भारत के लिए आशा की किरण के रूप में कार्य करता है। इंटरनेट कनेक्टिविटी की उपलब्धता को प्राथमिकता देकर, अदालत यह स्वीकार करती है कि सूचना तक पहुंच एक अधिकार है जिसे सभी नागरिकों तक बढ़ाया जाना चाहिए, चाहे उनकी भौगोलिक स्थिति या सामाजिक-आर्थिक पृष्ठभूमि कुछ भी हो।

 

यह निर्णय केवल लोगों को ऑनलाइन जोड़ने के बारे में नहीं है; यह उन्हें अवसरों, ज्ञान और सेवाओं से जोड़ने के बारे में है जो उनके जीवन को बदल सकते हैं। यह डिजिटल विभाजन को पाटने और एक अधिक न्यायसंगत समाज बनाने का आह्वान है जहां हर कोई डिजिटल युग में भाग ले सकता है और योगदान दे सकता है।

 

चूँकि अन्य राज्य और क्षेत्र इस ऐतिहासिक निर्णय से प्रेरणा लेंगे, इसलिए आशा है कि डिजिटल समावेशन की गति पूरे देश में फैल जाएगी। इंटरनेट की परिवर्तनकारी क्षमता को तभी पूरी तरह से महसूस किया जा सकता है जब प्रत्येक व्यक्ति को इसकी शक्ति का उपयोग करने का अवसर मिले। सुप्रीम कोर्ट का फैसला इस लक्ष्य की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है, जो हमें याद दिलाता है कि एक जुड़ा हुआ राष्ट्र एक मजबूत और अधिक समृद्ध राष्ट्र है।

 

 

विक्रम लैंडर ने लैंडिंग के बाद चंद्रमा की पहली तस्वीर जारी की

talktoons@
Author: talktoons@

Spread the love